Aug 31, 2016 · 1 min read

मेरे बचपन से (संस्मरण )

बचपन मैं सभी बच्चों की तरह मुझे भी कहानी सुनने का बड़ा शौक था । खुशकिस्मती से मुझे कहानी सुनाने के लिये घर में अनेक लोग थे जैसे दादा दादी ,माता पिता ,भाई, बहन । ननिहाल जाते तो वहाँ नाना नानी ,मामा ,मौसी । कहीं भी हम होते रात को किसी न किसी से कोई न कोई मजेदार कहानी या कहानियां सुनकर ही सोते। मैं जब थोड़ा बड़ा हुआ और पढ़ना सीख गया तो अखबार और पत्रिकाओं में बाल साहित्य पढ़ने लगा । इस तरह पढ़ने लिखने का शौक लगा ।
स्कूल के दिनों में छुट्टियाँ खेलने कूदने और कोमिक्स , बाल पत्रिकाओं में छपने वाली कहानियाँ , कवितायें या बाल उपन्यास पढ़ने में बीतता था। नन्दन ,लोटपोट, चंपक ,चन्दामामा कुछ नाम अभी भी याद हैं।

1289 Views
You may also like:
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ढह गया …
Rekha Drolia
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Accept the mistake
Buddha Prakash
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
Loading...