Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2023 · 1 min read

मेरे देश के युवाओं तुम

मेरे देश के युवाओं तुम।
आँखों में ऐसे स्वप्न भरों।।
यह भारत बने विश्वगुरु।
मन में ऐसा संकल्प करों।।
मेरे देश के युवाओं—————–।।

चेहरे पर निराशा नहीं रखों।
मुसीबत से घबराओ नहीं।।
नहीं ऐसे उदासी दिखलाओ।
गमों में खुद को जलाओ नहीं।।
संघर्ष ही तो जीवन है।
ऐसे ना दुःखों से तुम डरों।।
मेरे देश के युवाओं—————–।।

तुमको पुकारे भारत माँ।
साकार करों इसके सपनें।।
खुशियों से भरों इसकी झोली।
सिर इसका नहीं दो झुकने।।
इसको गर्व हो तुमपे बहुत।
ऐसे युग का निर्माण करों।।
मेरे देश के युवाओं——————–।।

निद्रा त्यागो तुम यह अपनी।
अपने कर्त्तव्य पथ पर बढ़ो।।
नहीं काँटों से हिम्मत हारो।
अपनी मंजिल पर आगे बढ़ो।।
अहसान बहुत है देश के।
कुर्बान इसकी रक्षा में करों।।
मेरे देश के युवाओं——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
ज़िंदगी की दौड़
ज़िंदगी की दौड़
Dr. Rajeev Jain
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
66
66
*प्रणय प्रभात*
हृदय के राम
हृदय के राम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...