Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

मेरे देश की मिट्टी

मेरे देश की मिट्टी
===========

जिस मिट्टी के महक से
उड़े सुगंध फुहाड़।
उस मिट्टी की महिमा को
अनंत अनंत प्रणाम।।

सुगंध युक्त है,अनुपम छटा है
मेरे देश की मिट्टी महान।
स्वर्ग सा सुंदर, धर्म धुरंधर
श्रीकृष्ण,राम लिये अवतार।।

भारत भुमि की मिट्टी से है
हमको बड़ा गुमान ।
अमूल्य खजाना इस मिट्टी से
निकला सारे जहां न।।

आन बान अरू शान से
निकल पड़ेगा प्राण।
मेरे देश के मिट्टी को है
अनंत अनंत प्रणाम।।

आदि से अंत तक जिसका
मौजुद है इतिहास।
वेद पुराण सब धर्म ग्रंथ पर
सास्वत है प्रमाण।।

उस देश की मिट्टी,मेरे देश की मिट्टी,, अनंत अनंत प्रणाम।
जग जाहिर है मेरी मातृभूमि
भारत भुमि का सुंदर नाम।।

वन उपजा, पहाड़ ऊंचा
उपज पड़ा है धान।
चरण पखारती गंगा मैय्या
आरती लेवे चारो धाम ।।

पक्षी गण कलरव करते हैं
मधुर गुंजन है गान।
सिंह सियार संग पानी पीते
मेरे देश की मिट्टी है जान।।

डॉ विजय कुमार कन्नौजे

Language: Hindi
2 Likes · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
वक़्त को वक़्त
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
टिकोरा
टिकोरा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
Harminder Kaur
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
तीन सौ वर्ष की आयु  : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
तीन सौ वर्ष की आयु : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
Ravi Prakash
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...