Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2022 · 1 min read

मेरे दिल को

मेरे दिल को आज फिर से आज़माकर देखिए
चंद लम्हों के लिए इसको सता कर देखिए

हर हक़ीक़त को यहाँ अब मुँह छिपाकर देखिए
धूप को भी धूप का चश्मा लगाकर देखिए

क्या पता फिर से पकड़ लें धड़कनें रफ़्तार को
इक नया एहसास दिल में फिर जगाकर देखिए

कोई भी दुश्मन नहीं है कोई भी अपना नहीं
हर किसी को दूर ही से मुस्कुराकर देखिए

भाग जाते हैं जो तुमसे मुँह चुराकर आए दिन
एक दिन उनसे कभी तुम मुँह चुराकर देखिए

… शिवकुमार बिलगरामी

2 Likes · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कफन
कफन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रकृति का भविष्य
प्रकृति का भविष्य
Bindesh kumar jha
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
टूट गया हूं शीशे सा,
टूट गया हूं शीशे सा,
Umender kumar
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
3080.*पूर्णिका*
3080.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
...........
...........
शेखर सिंह
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मानसिक विकलांगता
मानसिक विकलांगता
Dr fauzia Naseem shad
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
Neeraj Agarwal
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
FOR THE TREE
FOR THE TREE
SURYA PRAKASH SHARMA
आज़ादी की शर्त
आज़ादी की शर्त
Dr. Rajeev Jain
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
अमीरों की गलियों में
अमीरों की गलियों में
gurudeenverma198
■ वंदन-अभिनंदन
■ वंदन-अभिनंदन
*प्रणय प्रभात*
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
Loading...