Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2017 · 1 min read

“मेरे चले जाने के बाद”

मेरे चले जाने के बाद थोड़ा सा गम कर लेना।
जब याद आए तुम्हें हमारी आॅखोंको नम कर लेना।।
सताया है बहुत हमने ,अब और ना सतऐंगे।
नहीं जानता है दिल मेरा,तुम बिन कैसे रह पाऐंगे।।
तन्हाईयों के सहारे जीने का दम भर लेना।
मेरे चले जाने के बाद——————-
कश्मे वादे प्यार वफा को तूने न जाना।
दिल में तेरे रहते रहे हम फिर भी न पहचाना।।
जब मैयत मेरी निकले तेरे दर से अश्कों का दरिया भर लेना।
मेरे चले जाने के बाद———————
तेरे वादों पे करके भरोसा हमें ये शिला मिला है।
लगाया जो दिल आपसे हमे दर्दे दिल मिला है।
मेरी यादों का चाॅद ना आए नजर तो अंधेरों से दोस्ती कर लेना।
मेरे चले जाने के बाद ———————-

रचयिता-इन्द्रजीत सिंह लोधी

557 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
सडा फल
सडा फल
Karuna Goswami
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
अल्प इस जीवन में
अल्प इस जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
अगर प्यार  की राह  पर हम चलेंगे
अगर प्यार की राह पर हम चलेंगे
Dr Archana Gupta
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
*प्रणय प्रभात*
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
Loading...