Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 2 min read

मेरे आदर्श मेरे पिता

मेरे आदर्श मेरे पिता हैं,
वही मेरे गुरु हैं वही मेरे मित्र हैं ।
उनके सिवा मेरा न कोई यत्र है न कोई तत्र है ।।
वही मेरे दिन हैं वही मेरे रात हैं ।
ये मेरा हँसता खेलता जीवन,
बस उन्हीं से शुरुआत है,
और उन्हीं पर समाप्त है ।।
मेरी ये हँसती खेलती जिंदगी में हमें कहीं गम नहीं है,
हाँ माँ हमसे जरूर थोड़ी रूठ गई हैं,
इसलिये वो भगवान के यहाँ चली गई हैं,
उसके लिए मेरा कोई आँसू कम नहीं है,
बाकी माँ की कृपा से हमें यहाँ कोई गम नहीं है ।।
हम तीन जनों की जिंदगी में,
दो ही और बचे हैं मैं और मेरे पापा,
अब उन्हीं से मेरे सुबह की शुरुआत होती है,
और उन्हीं पर मेरी रात्रि की समाप्ति भी हो जाती है ।।
मेरी प्रार्थना है भगवन से,
मैं जब भी इस धरा पर आऊँ तो,
हमलोगों को हमेशा हरा भरा रखना ।।
और उस हर जन्म में,
पिता गुरु और मित्र के रूप में यही पिता,
माता के रूप में यही माता हमें हमेशा देना ।।
तभी इस धरती पर हमें भेजना,
नहीं तो इस धरा पर,
हमें कभी मत भेजना,
सदा अपने साये में रखना ।।
धरती पर जो भेजना हो तो,
मेरे जीवन की शुरुआत हमेशा इन्हीं से करना ।
और हो सके तो मेरे जीवन का अंत भी,
इन्हीं के साथ या फिर इनकी यादों में करना ।।
मैं ज्यादा जीना नहीं चाहता,
और ना चाहता हूँ कठिन मौत,
बाप बेटे और माँ बेटे का प्यार का रिश्ता,
हर जन्म में प्यारा बना रहे,
ताकि लग न सकें हम किसी के बोझ,
और कर सकें सदा इस धरा पर आकर,
आपस में मिलकर के मौज ।।

कवि – मनमोहन कृष्ण
तारीख – 17/07/2023
समय – 05 : 52 ( सुबह )

Language: Hindi
484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
Sonam Puneet Dubey
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
पूर्वार्थ
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
Srishty Bansal
// माँ की ममता //
// माँ की ममता //
Shivkumar barman
बढ़ती तपीस
बढ़ती तपीस
शेखर सिंह
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*प्रणय प्रभात*
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
sushil yadav
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
दिल तमन्ना
दिल तमन्ना
Dr fauzia Naseem shad
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
Manisha Manjari
"शीशा और रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
Loading...