Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

मेरी हैसियत

यूहीं नहीं जीता इस जहां में गैरों के लिए,
कुछ तो हस्ती रखता हूं जमाने के लिए,
माना कि बहुत दाग हैं मेरे इस दामन पर,
फिर भी पुकारते हैं कुछ लोग भुनाने के लिए ।

जिंदगी के सफ़र में अटकलें बहुत हैं,
इन अड़चनों से यूं मिटा न सकोगे,
सफ़र दर सफ़र निखारा है ख़ुद को,
तुम मुझे मेरे जाने के बाद याद करोगे ।

हैसियत को जो बट्टा लगाया है आपने,
इस छीज़ को पूरा करेगा कौन,
जी – हुजूरी से नहीं पाई है ये शोहरत,
उर्फियत की कमी को भरेगा कौन ।

शिकवा नहीं जो तूने घोंपा पीठ में खंजर,
फिर भी मुकम्मल नहीं हूं तेरी जमीं से,
आसरा करके बैठे हैं कि जैसे जा रहा हूं मैं,
बैचेन हैं फिर भी बहुत वे अपने शुकून से ।

Language: Hindi
2 Likes · 1259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
Ravi Prakash
अपनी सीमाओं को लांगा
अपनी सीमाओं को लांगा
कवि दीपक बवेजा
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
💐अज्ञात के प्रति-5💐
💐अज्ञात के प्रति-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"कविता क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का आभार
■ आज का आभार
*Author प्रणय प्रभात*
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...