Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 2 min read

मेरी साँसों से अपनी साँसों को – अंदाज़े बयाँ

मेरी साँसों से अपनी साँसों को

मेरी साँसों से अपनी साँसों को ,मिलाकर तो देख
दो पल के लिये ही सही , मेरी बाहों में आकर तो देख

खूबसूरत है ये दुनिया, करना कोई गुनाह नहीं
दो पल के लिए ही सही, मुझको अपना बनाकर तो देख

इश्क के चाहने वालेको, अपने इश्क का खुदा बनाकर तो देख
दो पल के लिए ही सही, खुद को मुझ पर मिटाकर तो देख

मुझे मालूम है कि तुझे, इन दो पलों के चरम का एहसास नहीं
इन दो पलों के लिए ही सही, खुद को मुझ पर लुटाकर तो देख

अजनबी नहीं हूँ मैं तेरे लिए, मुझ पर एतबार करके तो देख
दो पल के लिए ही सही , खुद को मेरी कहलाकर तो देख

तेरे इश्क में हमने खुद को किया कुर्बान, दो पल के लिए ही सही नज़रें मिलाकर तो देख
दो पल के लिए ही सही , खुद को मुझ पर निसार करके तो देख

मैं जानता हूँ तू है खूबसूरती का वो नजारा , जिसे हम क्या बयाँ करें –
दो पल के लिए ही सही, अपने हुस्न का नज़ारा हमें कराकर तो देख

आदमियत है तुझमे, नेकदिल है तू, यूं न कर हमसे किनारा
दो पत्र के लिए ही सही , इस आशिके-आवारा का सहारा बनकर तो देख

तेरी आरज़ू मेरा ईमाने–इश्क , तुझसे सिवा मुझे कोई कुबूल नहीं
दो पल के लिए ही सही, इस दीवाने – दिल की पुकार तो सुनकर तो देख

आबाद और बर्बाद भी हुए हैं इस इश्क की चाहत में इश्क के परवाने
दो पल के लिए ही सही , इस दीवाने की रुखसती आकर अपनी आँखों से देख

मेरी साँसों से अपनी साँसों को ,मिलाकर तो देख
दो पल के लिये ही सही , मेरी बाहों में आकर तो देख

खूबसूरत है ये दुनिया, करना कोई गुनाह नहीं
दो पल के लिए ही सही, मुझको अपना बनाकर तो देख

1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
*लब मय से भरे मदहोश है*
*लब मय से भरे मदहोश है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
Lohit Tamta
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
Kabhi kabhi
Kabhi kabhi
Vandana maurya
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
Buddha Prakash
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
इजहार ए मोहब्बत
इजहार ए मोहब्बत
साहित्य गौरव
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...