Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

मेरी लाज है तेरे हाथ

जीवन एक खुली किताब
सा छुपे नहीं हैं कोई राज
जो भी चाहे देखे औ पढ़े
नहीं कभी कोई एतराज
जिस समाज में भी रहते
रखें उनके मान का ध्यान
नहीं कहीं कदाचित किया
मानवीयता का अपमान
पुरखों के आदर्शों का भी
रखा पूरे दिल से ख्याल
ताकि भावी पीढ़ी को न
हो हमसे कोई भी मलाल
प्रभु श्रीराम को मानते रहे
जीवन का सतत अवलंब
उनकी कृपा से दूर हुईं सब
बाधाएं, बढ़ते गए कदम
दयानिधि से विनती सतत
करता रहता दिन और रात
अपनी कृपा बनाए रखना
प्रभु, मेरी लाज है तेरे हाथ

Language: Hindi
89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यूं ना कर बर्बाद पानी को
यूं ना कर बर्बाद पानी को
Ranjeet kumar patre
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
*मंदोदरी (कुंडलिया)*
*मंदोदरी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
"हमदर्दी"
Dr. Kishan tandon kranti
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
तुझे भूले कैसे।
तुझे भूले कैसे।
Taj Mohammad
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
🙏
🙏
Neelam Sharma
श्रीराम गाथा
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
Loading...