Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

मेरी माटी मेरा देश भाव

मेरी माटी मेरा देश भाव,
साथी मेरे तुम पहचानो।
गौरव गाथा अपने भारत की,
जग समझाओ खुद भी जानो।।

भारत प्यारा है देश हमारा,
वृहद शौर्य से इसका नाता।
ज्ञान बुद्धि का बहु भण्डार यहाँ,
इतिहास हमें है बतलाता।
पावन मिट्टी का हर कण कहता,
नीर वीरता सत मुख छानो।
गौरव गाथा अपने भारत की,
जग समझाओ खुद भी जानो।।

भागी हिंद देश की उन्नति का,
हम सबको भी तो है बनना।
बैर भाव तज देश एकता का,
सत्य भाव है निज उर भरना।
शपथ देश की सर्व सुरक्षा की,
सच्चे मन से जनगण ठानो।
गौरव गाथा अपने भारत की,
जग समझाओ खुद भी जानो।।

शांति प्रेम का है हिंद पुजारी,
सारा जग इस सच को जाने।
आतंक विरोधी नीति सख्त है,
रूप हिंद का नव पहचाने।
वीर वीरता की गाथाओं का,
वर्णन हो जन कानो-कानो।
गौरव गाथा अपने भारत की,
जग समझाओ खुद भी जानो।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
Shweta Soni
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमको
हमको
Divya Mishra
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
Mahender Singh
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मजदूर
मजदूर
Harish Chandra Pande
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
गलतियां ही सिखाती हैं
गलतियां ही सिखाती हैं
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
Ravi Prakash
■ असलियत
■ असलियत
*Author प्रणय प्रभात*
कभी चुपचाप  धीरे से हमारे दर पे आ जाना
कभी चुपचाप धीरे से हमारे दर पे आ जाना
Ranjana Verma
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-381💐
💐प्रेम कौतुक-381💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
" बोलियाँ "
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
** स्नेह भरी मुस्कान **
** स्नेह भरी मुस्कान **
surenderpal vaidya
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
Loading...