Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 2 min read

मेरी माँ तू प्यारी माँ

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

तूने मुझ को जन्म देकर
धरती पर अवतरित किया
अपना अमृत दूध पिलाकर
अपार शक्ति और बल दिया
मुझ पर अपना प्यार लुटाती
ऐसी प्यारी प्यारी माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

जब मैं कोई शरारत करता
माँ तु गुस्सा हो जाती है।
और गुस्से का रूप बनाकर
मुझे अपने पास बुलाती है।
जब मैं पास नहीं आता तो
तु राजा बेटा कहती माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

जब मैं रूठ कर मुँह फुलाता
माँ तु मुझे मनाती हैं।
छोटी सी मुस्कान पाने को
कितने जतन तू करती है।
तरह-तरह के लालच देकर
मुझको तु बहलाती माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

लुका छुपी खेल खेल में
मैं कहीं छुप जाता हूँ
बहुत ढूंढने पर भी जब मैं
तुझे नहीं मिल पाता हूँ
तब तू कितना चिंतित हो
प्यार से मुझे बुलाती माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

मैं दिन में विद्यालय जाता
और तू खेत पर जाती है।
खेत पर काम करते करते
तू भविष्य मेरा बूनती है।
शाम को घर आते ही पहले
मुझको गले लगाती माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

देर रात तक जब कभी भी
नींद मुझे नही आती है।
तब तू प्यार से लोरी सुनाती
मन मेरा बहलाती है।
तेरी प्यारी लोरी सुनकर
मैं पल में सो जाता माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

दुनिया में माँ और बेटे का
रिश्ता बड़ा निराला है।
माँ बेटे की भगवान है और
बेटा माँ का दुलारा है।
तू मेरी है भोली मैया और
मैं हूँ तेरा लाल माँ।

मेरी माँ तू प्यारी माँ
अच्छी भोली न्यारी माँ।

– विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

Language: Hindi
510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज शाम 5 बजे से लगातार सुनिए, सियासी ज्योतिषियों और दरबारियो
आज शाम 5 बजे से लगातार सुनिए, सियासी ज्योतिषियों और दरबारियो
*प्रणय प्रभात*
मैं घर आंगन की पंछी हूं
मैं घर आंगन की पंछी हूं
करन ''केसरा''
नज़्म _मिट्टी और मार्बल का फर्क ।
नज़्म _मिट्टी और मार्बल का फर्क ।
Neelofar Khan
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य और सत्ता
सत्य और सत्ता
विजय कुमार अग्रवाल
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
Paras Nath Jha
शीर्षक– आपके लिए क्या अच्छा है यह आप तय करो
शीर्षक– आपके लिए क्या अच्छा है यह आप तय करो
Sonam Puneet Dubey
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
$úDhÁ MãÚ₹Yá
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
Loading...