Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2022 · 1 min read

//… मेरी भाषा हिंदी…//

#हिंदी दिवस

//…मेरी भाषा हिंदी…//

भारत देश है मेरा ऐसा
पूरी हो या आधी ,
जहां विभिन्न भाषाएं
बोले यहां की आबादी…..!

मद्रासी,तेलुगू , मराठी
मालवी ,ब्रज ,अवधी
इन भाषाओं की रिश्तेदारी में
यह सब की बड़ी दीदी….!

बोले हिंदू हो या मुस्लिम
पंजाबी हो या सिंधी ,
यह भारत मां के
माथे की बिंदी….!

हम सब की है
आन-बान-शान ,
गर्व है मुझे,
मेरी भाषा है हिंदी……!

चिन्ता नेताम “मन”
डोंगरगांव (छत्तीसगढ़)

Language: Hindi
1 Like · 704 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिवनाथ में सावन
शिवनाथ में सावन
Santosh kumar Miri
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
चाय - दोस्ती
चाय - दोस्ती
Kanchan Khanna
"चालाकी"
Ekta chitrangini
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
Shashi kala vyas
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
शेखर सिंह
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
अनिल "आदर्श"
"धुएँ में जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
पुस्तक समीक्षा
पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
2887.*पूर्णिका*
2887.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज का विचार।।
■ आज का विचार।।
*प्रणय प्रभात*
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
Ajad Mandori
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
अजब गजब
अजब गजब
Akash Yadav
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
8. *माँ*
8. *माँ*
Dr Shweta sood
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...