Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

मेरी बेटी

‘ मेरी बेटी ‘

पल में रुठ जाये ,पल में मान जाती है,
कभी संग तो कभी आगे निकल जाती है
कभी जीत जाये, कभी संग उसके जीत जाता हूँ
थोड़ी नादान, थोड़ी नासमझ,थोड़ी अल्हड़ वो, मेरी बेटी है !!

सूरज सा तेज , चाँद की शीतलता उसमे
शबनम सी कोमलता, चट्टान से इरादे उसके
ना करम पे, ना रहम पे, खुद पे यक़ीन है उसे
फूल – सी कोमल,ओस की नाजुक लगती वो, मेरी बेटी है !!

जिसके नन्ही क़दमो पे होते थे कभी कुर्बान
आज ज़माने में हो गई है उससे अपनी पहचान
चेहरे पर हर पल लिए, एक ताज़ी सुहानी मुस्कान
सोते भाग्य को आहट मात्र से जगाने वाली वो, मेरी बेटी है !!

सुना है सबसे, बेटी अपनी नहीं पराई होती है
मैं तो बस इतना जानू, माँ- बाप की जान होती है
कदम मात्र से ही जिसके दूसरे घर भी पावन हो जाये
दो कुलों की मर्यादा बखूबी निबाहने वाली वो, मेरी बेटी है !!

बढ़ रहे जिसके कदम आज डगर डगर है
उसके हर परचम पर जहां में सबकी नजर है
फिर क्यों ना कहे ‘अजय’, बेटो से आज आगे बेटी है
अपने मान-सम्मान के परचम लहराने वाली वो, मेरी बेटी है !!
—— अजय
( स्वरचित )

1619 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
2823. *पूर्णिका*
2823. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
हरे भरे खेत
हरे भरे खेत
जगदीश लववंशी
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
कुछ पाने की कोशिश में
कुछ पाने की कोशिश में
Surinder blackpen
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
Arvind trivedi
क्या हुआ की हम हार गए ।
क्या हुआ की हम हार गए ।
Ashwini sharma
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
Good night
Good night
*प्रणय प्रभात*
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
" महखना "
Pushpraj Anant
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
Loading...