Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

मेरी नाव

देखो देखो बारिश आई,
राम श्याम आओ भाई,
सब मिल कर खेलें खेल,
मैंने तो अपनी नाव बनाई।

सब अपनी नाव चलाओ,
वो देखो मेरी नाव चली,
चुन्नु मुन्नु तुम भी आओ,
अपनी अपनी नाव दौड़ाओ।

गलियाँ नदियाँ सी बहती,
हम से चलने को कहती,
चलते चलते बढ़ते जाएँ,
अच्छे ही अच्छे बनते जाएँ।

सीख ये बारिश दे जाती,
अपनी राह खुद बनाती,
बहुत कुछ हमसे कहती,
रुकती नहीं, बहती रहती।

कहती हम से हमेशा यही,
कछुए की चाल चलो यों ही,
रुकना तुम कभी मत जानो,
धीरे धीरे निरंतर बढ़ना मानो।

यों ही तुम बस चलते जाओ,
जीवन में आगे बढ़ते जाओ,
सफलता तुम फिर ही पाओगे,
समय के साथ चलते जाओगे।

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पिछले महीने तक
पिछले महीने तक
*प्रणय प्रभात*
*An Awakening*
*An Awakening*
Poonam Matia
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कलमबाज
कलमबाज
Mangilal 713
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
रामपुर में जनसंघ
रामपुर में जनसंघ
Ravi Prakash
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो लोग असफलता से बचते है
जो लोग असफलता से बचते है
पूर्वार्थ
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
क्या जलाएगी मुझे यह, राख झरती ठाँव मधुरे !
क्या जलाएगी मुझे यह, राख झरती ठाँव मधुरे !
Ashok deep
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
"वायदे"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
मुझे तुम
मुझे तुम
Dr fauzia Naseem shad
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
Loading...