Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

मेरी दिव्य दीदी – एक श्रृद्धांजलि

धैर्य , त्याग एवं शान्ति की प्रतिमूर्ति ,
मेरे जीवन का संबल मेरी प्रेरणा शक्ति ,
मेरी शिक्षक , मेरी संकटमोचक,
मेरी पथप्रदर्शक ,
संस्कारों नैतिक मूल्यों से पोषित
उसका व्यवहार ,
स्वस्थ परंपराओं एवं सकारात्मक विचांरों युक्त उसका आचार ,
उसका देदिप्यमान प्रभामंडल
एवं प्रखर प्रज्ञा शक्ति ,
संकटों से जूझने का उसका अटूट आत्मविश्वास एवं संकल्प शक्ति ,
मेरे अन्तस्थ पोषित आदर्शों एवं
मानवमूल्यों का मूल,
परिवार के हितों की रक्षा में तेरे बलिदान को हम जीवनपर्यंत न सकेंगें भूल।

Language: Hindi
2 Likes · 335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारे दौर में
हमारे दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
★
पूर्वार्थ
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
मुझको उनसे क्या मतलब है
मुझको उनसे क्या मतलब है
gurudeenverma198
3339.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3339.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
मैं सब कुछ लिखना चाहता हूँ
Neeraj Mishra " नीर "
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...