Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में

मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
फ़िक्र वो करें जिसके गुनाह आज भी पर्दे मे है ll

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*A date with my crush*
*A date with my crush*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
मैं और सिर्फ मैं ही
मैं और सिर्फ मैं ही
Lakhan Yadav
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
Keshav kishor Kumar
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
“अग्निपथ आर्मी के अग्निवीर सिपाही ”
“अग्निपथ आर्मी के अग्निवीर सिपाही ”
DrLakshman Jha Parimal
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
हारता वो है
हारता वो है
नेताम आर सी
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
अनुभव
अनुभव
Sanjay ' शून्य'
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#क़ता (मुक्तक)
#क़ता (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
पूर्वार्थ
Loading...