Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

मेरी जिंदगी मेरी जरूरत हो तुम

मेरी जिंदगी मेरी जरूरत हो तुम,
कहूँ कैसे बहुत खूबसूरत हो तुम.

सजदे में जिसे मैंने हर बार मांगा है,
खुदा से मांगी हुई वो इबादत हो तुम.

जब से देखा ये दिल तुमपे आ गया,
सच कहता हूँ पहली मुहब्बत हो तुम.

जिक्र मेरी गजलों में हर बार होता है,
हर पल गुनगुनाने की आदत हो तुम.

भटक ही गया था जहाँ की भीड़ में,
मेरे जीने की फिर नई शुरूवात हो तुम.

हर वक्त मुझे तुम्हारी ही याद आती है,
मेरे जिंदगी की हसीन मुलाकात हो तुम.

फूलों जैसी कोमलता आँखों में चंचलता,
खुदा की बनायी अनमोल नजाकत हो तुम.

जब से तुम्हे जाना है दीवाना बन गया हूँ,
गंगा सी पवित्र पाकीजगी की मूरत हो तुम.

जिंदगी जी नहीं पाऊंगा बिना तुम्हारे ‘ देव’,
हमेशा ये ख्याल रखना मेरी अमानत हो तुम.
__देवांशु

2 Comments · 2457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
Sanjay ' शून्य'
पिता
पिता
Dr Manju Saini
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
2841.*पूर्णिका*
2841.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
Loading...