Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2023 · 1 min read

मेरी कलम……

…..मेरी कलम……

मेरी कलम मेरा साथ बखूबी निभाती है
तन्हाई में भी आकर गले लगाती है

कड़कती धूप में
परछाई बन जाती है
ठंड मे
मखमल की चादर कहलाती है

मैं रूठ जाऊँ अगर
तो प्यार से मनाती है

सजदे करूं तो
दुआएं मेरी भी कहती है
गलती पर टोकती है
खुशियों पर गले लगाती है

हर कदम साथ रहती है मेरे
कविता ही मेरी मंजिल है अब
कलम साथ रहती है
फर्ज अपना निभाती है
………….. ……. ….
नौशाबा जिलानी सुरिया

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
शेयर
शेयर
rekha mohan
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
Shekhar Chandra Mitra
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
Surinder blackpen
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...