Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

मेरी कलम से…

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

अपनों से ख़ुशियाँ मिलें तो समेट लो,
इसे औरों के साथ बाँटा नहीं करते।

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
हौसला
हौसला
Shyam Sundar Subramanian
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
कभी हुनर नहीं खिलता
कभी हुनर नहीं खिलता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*जीवन का आधार है बेटी,
*जीवन का आधार है बेटी,
Shashi kala vyas
दर्शन
दर्शन
Dr.Pratibha Prakash
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ
माँ
Harminder Kaur
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
Loading...