Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2016 · 1 min read

मेरी कलम बस लिख जाये…………….

चाहे गीत लिखूँ न माता रमणी के श्रृंगारों को
चाहे वर्णन करूँ नहीं कुदरत के हसीं नजारों का
सीमा पर जो हँस हँस गिरते भारत माँ की जय कहकर
मेरी कलम बस लिख जाये उन, शीशों के जयकारों को।
–दीपक गोस्वामी चिराग
बहजोई सम्भल उ प्र

1 Comment · 201 Views
You may also like:
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
"अशांत" शेखर
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
Loading...