Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

मेरी कलम बस लिख जाये…………….

चाहे गीत लिखूँ न माता रमणी के श्रृंगारों को
चाहे वर्णन करूँ नहीं कुदरत के हसीं नजारों का
सीमा पर जो हँस हँस गिरते भारत माँ की जय कहकर
मेरी कलम बस लिख जाये उन, शीशों के जयकारों को।
–दीपक गोस्वामी चिराग
बहजोई सम्भल उ प्र

Language: Hindi
1 Comment · 391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"एक उम्र के बाद"
Dr. Kishan tandon kranti
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
sushil sarna
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
■ सलामत रहिए
■ सलामत रहिए
*Author प्रणय प्रभात*
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पल
पल
Sangeeta Beniwal
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
VINOD CHAUHAN
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
शेखर सिंह
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...