Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

” मेरी ओकात क्या”

” मेरी ओकात क्या”

समय के फेर बदल में मैं सैकण्ड की सुई टिक टिक कर टिक रहा घण्टा में आसानी से प्यादे के संग में बेखौफ होकर बिक रहा

देख मुझे दिवार पर अपनी सुकळ वो चैन की सांस लेते है।.। में मिनट संग सैकण्ड को देख अपनी, नकल में, दिदार की आश लेते हैं।

मैं पूल समय सीमा में बन्ध
घडी साम्राज्य में मेरी ओकाल क्या ?

हाँ। संगीत के तरानो के विरह प्रसाद मे रहता हूँ
कारण घण्टो सें निहारते रहे तो प्रेम में बिका रहता है।

यह प्रेम प्रसंग ही, मुझे अपनी उन निगाहों में झलक दिखाता है वरना घष्टो बीत जाते विरह में तन्हाईयो की याद भनक उसे अपनी लगाती है।

अब घण्टा कहता है,
अपनी प्रजा से आप के बिगेर मेरी औकात क्या ?

Language: Hindi
29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
*ढोलक (बाल कविता)*
*ढोलक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
रेशम की डोरी का
रेशम की डोरी का
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
एक पुष्प
एक पुष्प
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
Loading...