Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 1 min read

मेरी आंखों में

दर्दे एहसास के नाम पर बाकी ।
मेरी आंखों में सिर्फ़ पानी था ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
19 Likes · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मेरा स्वर्ग
मेरा स्वर्ग
Dr.Priya Soni Khare
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
दर जो आली-मकाम होता है
दर जो आली-मकाम होता है
Anis Shah
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
Red Hot Line
Red Hot Line
Poonam Matia
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...