Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 4 min read

‘ मेरा हाल सोडियम-सा ’ [ लम्बी तेवरी, तेवर-शतक ] +रमेशराज

…………………………………………………
इस निजाम ने जन कूटा
हर मन दुःख से भरा लेखनी । 1

गर्दन भले रखा आरा
सच बोलूंगा सदा लेखनी ।

मैंने हँस-हँस जहर पिया
मैं ‘मीरा-सा’ रहा लेखनी । 3

मेरा स्वर कुछ बुझा-बुझा
मैं मुफलिस की सदा लेखनी । 4

मेरे हिस्से में पिंजरा
तड़पे मन का ‘सुआ’ लेखनी । 5

मेरा ‘पर’ जब-जब बाँधा
आसमान को तका लेखनी । 6

मन के भीतर घाव हुआ
मैं दर्दों से भरा लेखनी । 7

आदमखोरों से लड़ना
तुझको चाकू बना लेखनी । 8

शब्द-शब्द आग जैसा
कविता में जो रखा लेखनी । 9

छल सरपंच बना बैठा
इस पै अँगुली उठा लेखनी । 10

जो सोया भूखा-प्यासा
उसको रोटी जुटा लेखनी । 11

हर मन अंगारे जैसा
तू दे थोड़ी हवा लेखनी । 12

इसका दम्भ तोड़ देना
ये है खूनी किला लेखनी । 13

तुझसे जनमों का नाता
तू मेरी चिरसखा लेखनी । 14

मुझको क्रान्ति-गीत गाना
मैं शायर सिरफिरा लेखनी । 15

मुझमें क्रान्ति-भरा किस्सा
मुझको आगे बढ़ा लेखनी । 16

मुझमें डाइनामाइट-सा
इक दिन दूंगा दिखा लेखनी । 17

सच हर युग ऐसा धागा
जिसने हर दुःख सिया लेखनी । 18

कुम्भकरण जैसा सोया
तू विरोध को जगा लेखनी । 19

मुझ में जोश तोप जैसा
तू जुल्मी को उड़ा लेखनी । 20

‘सोच’ आग-सा धधक रहा
मन कंचन-सा तपा लेखनी । 21

ये ख़याल मन उभर रहा
मैं रोटी, तू तवा लेखनी । 22

जिबह कबूतर खुशियों का
पंखों को फड़फड़ा लेखनी । 23

सिसके निश-दिन मानवता
शेष नहीं कहकहा लेखनी । 24

हर कोई बस कायर-सा
बार-बार ये लगा लेखनी । 25

यहाँ बोलबाला छल का
सबने सबको ठगा लेखनी । 26

खामोशी से कब टूटा
शोषण का सिलसिला लेखनी । 27

खल पल-पल कर जुल्म रहा
इसके चाँटे जमा लेखनी । 28

घर के आगे ‘क्रान्ति’ लिखा
मेरा इतना पता लेखनी । 29

जिन पाँवों में कम्पन-सा
बल दे, कर दे खड़ा लेखनी । 30

‘झिंगुरी’ को गाली देता
क्रोधित ‘होरी’ मिला लेखनी । 31

मैंने ‘गोबर’ को देखा
नक्सलवादी हुआ लेखनी । 32

‘धनिया’ ने ‘दाता’ पीटा
दिया मजा है चखा लेखनी । 33

खूनी उत्सव रोज हुआ
ये कैसी है प्रथा लेखनी । 34

घुलता साँसों में विष-सा
कैसी है ये हवा लेखनी । 35

महज पतन की ही चर्चा
सामाजिक-दुर्दशा लेखनी । 36

जन चिल्ला-चिल्ला हारा
बहरों की थी सभा लेखनी । 37

अपने को नेता कहता
जो साजिश में लगा लेखनी । 38

वही आज संसद पहुँचा
जो गुण्डों का सगा लेखनी । 39

सुख तो एक अदद लगता
दर्द हुआ सौ गुना लेखनी । 40

धर्मराज फिर से खेला
आदर्शों का जुआ लेखनी । 41

जो मक्कार और झूठा
वो ही हर युग पुजा लेखनी । 42

राजा रसगुल्ले खाता
भूखी है पर प्रजा लेखनी । 43

जज़्बातों से वो खेला
सबका बनकर सगा लेखनी । 44

सुन वसंत तब ही आया
पात-पात जब गिरा लेखनी । 45

मुझमें ‘दुःख’ ऐसे तनता
मैं फोड़े-सा पका लेखनी । 46

कैसे कह दूँ अंगारा
जो भीतर तक बुझा लेखनी । 47

मेरा हाल ‘सोडियम’-सा
मैं पानी में जला लेखनी । 48

भले आज तम का जल्वा
लेकिन ये कब टिका लेखनी । 49

कैसा नाटक रचा हुआ
लोग रहे सच छुपा लेखनी । 50

उसका अभिनंदन करना
जो अपने बल उठा लेखनी । 51

जन के लिये न्याय बहरा
चीख-चीख कर बता लेखनी । 52

जिनको भी अपना समझा
वे करते सब दगा लेखनी । 53

अनाचार से नित लड़ना
फड़क रही हैं भुजा लेखनी । 54

अंधकार कुछ तो टूटा
बार-बार ये लगा लेखनी । 55

तू चलती, लगता चलता
साँसों का सिलसिला लेखनी । 56

जीवन-भर संघर्ष किया
मैं दर्दों में जिया लेखनी । 57

और नहीं जग में तुझ-सा
जो दे उत्तर सुझा लेखनी । 58

कैसे सत्य कहा जाता
सीख तुझी से लिया लेखनी । 59

उन हाथों में अब छाला
कल थी जिन पै हिना लेखनी । 60

चक्रब्यूह ये प्रश्नों का
अभिमन्यु मैं, घिरा लेखनी । 61

आकर मन जो दर्द बसा
कब टाले से टला लेखनी । 62

मन तहखानों में पहुँचा
जब भी सीढ़ी चढ़ा लेखनी । 63

टुकड़े-टुकड़े महज रखा
नेता ने सच सदा लेखनी । 64

छल स्वागत में खड़ा मिला
जिस-जिस द्वारे गया लेखनी । 65

जिसमें प्रभा-भरा जज़्बा
वह हर दीपक बुझा लेखनी । 66

जिसको सच का नभ छूना
पाकर खुश है गुफा लेखनी । 67

‘बादल देगा जल’ चर्चा
मौसम फिर नम हुआ लेखनी । 68

पग मेरा अंगद जैसा
अड़ा जहाँ, कब डिगा लेखनी । 69

प्रस्तुत उनको ही करना
जिन शब्दों में प्रभा लेखनी । 70

मुंसिफ के हाथों देखा
अदालतों में छुरा लेखनी । 71

शान्तिदूत खुद को कहता
हमें खून वो नहा लेखनी । 72

सबको पंगु बना बैठा
ये पश्चिम का नशा लेखनी । 73

न्याय-हेतु थाने जाना
जो चोरों का सगा लेखनी । 74

अनाचार बनकर बैठा
ईमानों का सखा लेखनी । 75

सच जब भी शूली लटका
‘भगत सिंह’-सा हँसा लेखनी । 76

मल्टीनेशन जाल बिछा
जन कपोत-सा फँसा लेखनी । 77

घर-घर में पूजा जाता
सुन बिनलौनी-मठा लेखनी । 78

नयी सभ्यता का पिंजरा
इसमें खुश हर सुआ लेखनी । 79

जिसमें दम सबका घुटता
भाती वो ही हवा लेखनी । 80

मृग जैसा मन भटक रहा
ये पश्चिम की तृषा लेखनी । 81

पल्लू थाम गाँव पहुँचा
महानगर का नशा लेखनी । 82

जिधर झूठ का भार रखा
उधर झुकी है तुला लेखनी । 83

आज आस्था पर हमला
मूल्य धर्म का गिरा लेखनी । 84

देव-देव सहमा-सहमा
असुर लूटते मजा लेखनी । 85

अब रामों सँग सूपनखा
त्यागी इनने सिया लेखनी । 86

आज कायरों कर गीता
अजब देश में हवा लेखनी । 87

चीरहरण खुद कर डाला
द्रौपदि अब बेहया लेखनी । 88

मनमेाहन गद्दी बैठा
किन्तु कंस-सा लगा लेखनी । 89

जहाँ नाचती मर्यादा
डिस्को का क्लब खुला लेखनी । 90

सबको लूट बना दाता
जो मंचों पर दिखा लेखनी । 91

मानव जब मति से अंधा
क्या कर लेगा दीया लेखनी । 92

हमने बगुलों को पूजा
हंस उपेक्षित हुआ लेखनी । 93

छल का रूप साधु जैसा
तिलक! चीमटा! जटा! लेखनी । 94

वह जो वैरागी दिखता
माया की लालसा लेखनी । 95

नदी निकट बगुला बैठा
रूप भगत का बना लेखनी । 96

जनहित में तेवर बदला
चीख नहीं है वृथा लेखनी । 97

हर तेवर आक्रोश-भरा
यह सिस्टम नित खला लेखनी । 98

इन तेवरियों से मिलता
असंतोष का पता लेखनी । 99

तेवर-तेवर अब तीखा
जन-जन की है व्यथा लेखनी । 100

मन ‘विरोध’ से भरा हुआ
खल के प्रति अति घृणा लेखनी । 101

पूछ न आज तेवरी क्या ?
बनी अग्नि की ऋचा लेखनी । 102
——————————————————
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
Mo.-9634551630

Language: Hindi
240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यादें
यादें
श्याम सिंह बिष्ट
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वियोग
वियोग
पीयूष धामी
प्रणय 10
प्रणय 10
Ankita Patel
मै स्त्री कभी हारी नही
मै स्त्री कभी हारी नही
dr rajmati Surana
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हार हूँ
हार हूँ
Satish Srijan
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज़िंदा होने का सबूत दो
ज़िंदा होने का सबूत दो
Shekhar Chandra Mitra
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आराधना
आराधना
Kanchan Khanna
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
आज की तारीख़ में
आज की तारीख़ में
*Author प्रणय प्रभात*
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
"साहस का पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*चिपकाते पोस्टर दिखे, दल-प्रत्याशी-लोग (कुंडलिया)*
*चिपकाते पोस्टर दिखे, दल-प्रत्याशी-लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...