Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

मेरा प्यार बनके आ जा

वो प्यार बनके आजा
तू बन के ख्वाब आजा
मेरा सरताज बन के आ जा
मैं ढूँढता हूँ सरे राह तुझ को
तू मेरी एक आह पर तो आ जा !!

हर नजर, हर वक्त , तेरी याद में
गुजर कर चला जाता है
मैं पकड़ना भी चाहूं उसको,
तो वो दगा दे कर भाग जाता है !!

इक सहारा है मेरे पास तेरी
यादो का , वो पिटारा मेरे साथ
साथ ही रह जाता है
मेरी जिन्दगी का बस इक तू
ही है सरोकार, ओ मेरे सरताज
बस तू, वो प्यार बनके आ जा !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
रिश्तों का बदलता स्वरूप
रिश्तों का बदलता स्वरूप
पूर्वार्थ
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
कुदरत के रंग....एक सच
कुदरत के रंग....एक सच
Neeraj Agarwal
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
आदम का आदमी
आदम का आदमी
आनन्द मिश्र
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
Dr Archana Gupta
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
Ravi Prakash
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
निर्णायक स्थिति में
निर्णायक स्थिति में
*Author प्रणय प्रभात*
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
*फल*
*फल*
Dushyant Kumar
3100.*पूर्णिका*
3100.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
Loading...