Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

मेरा तोता

मैंने घर पर तोता पाला,
पिंजरे में इसे रख डाला।

हरी मिर्च खुशी से खाता,
अमरूद इसके मन भाता।

जोर-जोर से यह चिल्लाये,
मिठ्ठू नाम है इसको भाये।

करता नहीं तनिक विश्राम,
कहता जपो सब राम-राम।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०८/०६/२०२१.

422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
आईना
आईना
Sûrëkhâ
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
Keshav kishor Kumar
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ सच साबित हुआ अनुमान।
■ सच साबित हुआ अनुमान।
*Author प्रणय प्रभात*
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
Ravi Prakash
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
__________सुविचार_____________
__________सुविचार_____________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
Loading...