Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

मेरा चमन……

जालिम बहुत है वो हर घर, गली , मुहल्ले में छुपे बैठे है

उनसे अपना चेहरा छुपाये रखना, नजरे बचाये रखना,

कही कर न जाए दागदार पाक दामन को, पाकर मौका

बेशकीमती है मेरा चमन, इसकी आबो हवा बनाये रखना

!

!

!

डी. के. निवातियां

Language: Hindi
1211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
"नजरों से न गिरना"
Dr. Kishan tandon kranti
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
क्या लिखूँ....???
क्या लिखूँ....???
Kanchan Khanna
*दहेज: छह दोहे*
*दहेज: छह दोहे*
Ravi Prakash
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
नारी शक्ति.....एक सच
नारी शक्ति.....एक सच
Neeraj Agarwal
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
Loading...