Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 10, 2016 · 1 min read

में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ..

गुजरे लम्हों को भूलाने में लगा रेहता हूँ,
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ..

ख्वाहिशें है कई,अधूरी न रेह जाय कोई,
करके ये ख्याल कमाने में लगा रहता हूँ
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ ।

करते हैं उजागर वो सरेआम गमो को अपने,
और में अपना दर्द छुपाने में लगा रेहता हूँ।
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ ।

गिरा हूँ इश्क़ में खुद मुँह के बल दोस्तों,
पर इश्क़ के अपाहिजों को चलाने में लगा रेहता हूँ।
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ ।

नादाँ रोती है हर छोटी बातों को लेकर
में छोड़ के हर काम हँसाने में लगा रेहता हूँ।
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ ।

कपिल जैन

202 Views
You may also like:
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
पिता
Deepali Kalra
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
मित्र
Vijaykumar Gundal
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आज के नौजवान
DESH RAJ
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मांँ की लालटेन
श्री रमण
✍️चीरफाड़✍️
"अशांत" शेखर
ज़िंदगी से बड़ा कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरे होने का अहसास
Dr. Alpa H. Amin
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
मै वह हूँ।
अनामिका सिंह
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
शोर मचाने वाले गिरोह
अनामिका सिंह
Loading...