Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 1 min read

मूर्दों का देश

भगतसिंह,
तुम्हारी फांसी भी
इस मरे हुए देश को
ज़िंदा न कर सकी।
यह आज भी
वही गलतियां
दोहराए जा रहा है
जिनके कारण
यह छोटी-छोटी
कौमों से हारा
और हज़ारों साल तक
ग़ुलाम रहा!
#सामंतवाद #BhagatSingh #मनुवाद
#equality #पितृसत्ता #मनुवाद
#जातिप्रथा #सांप्रदायिकता
#Casteism #दलित #Tribes

Language: Hindi
Tag: लेख
196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
शेखर सिंह
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
मां आई
मां आई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
भीड से निकलने की
भीड से निकलने की
Harminder Kaur
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
ऋतु शरद
ऋतु शरद
Sandeep Pande
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
पंछी
पंछी
sushil sarna
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
Mohan Bamniya
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
Loading...