Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 3 min read

मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )

मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )

मुच्छड़ ऐसा मानते , मूँछ मर्द की शान |
भिन्न रखें आकार कुछ , दें अपनी पहचान ||1

कुछ रखते हैं मूँछ का , पूरे मन से ख्याल |
हाथ लगाकर ऐंठते ,चलते हाथी चाल || 2

मूँछ देखकर नाक भी , होती सदा प्रसन्न |
रक्षक अपना मानती , कहती हम है टन्न || 3

पतली मोटी मूँछ रख , देते हैं आकार |
रखें नुकीली लोग भी , जैसे हो तलवार || 4

झगड़ा झंझट हो जहाँ , दें मूँछों को भाव |
दुश्मन भी जाता सहम , देख मूँछ का ताव ||5

करते ऊँची मूँछ भी ,जब मिलती है जीत |
चार लोग सम्मान में , आकर करें प्रणीत || 6

मुच्छड़ कहते हैं कभी , यहाँ मूँछ का बाल |
कीमत रखता लाख यह , रत्न समझता लाल || 7

पहलवान भी मूँछ से , पहले देता ताल |
कुश्ती जीते तानता , पुन: मूँछ के बाल ||8

मूँछ नहीं तो कुछ नहीं , मिल जाता है ज्ञान |
इससे बढ़कर मूँछ का , और कहाँ सम्मान ||9 ?

मानव तन में शान की , मूँछें बनी प्रतीक |
इस पर अच्छे कथ्य हैं , लगते सभी सटीक || 10

मूँछ मुड़ानें की कहें , जहाँ शर्त की बात |
मूँछ लड़ाई भी सुनी , जब चल उठती घात || 11

रौब जमाते मूँछ से , करते कुछ विस्तार |
कहते यह संसार में , मर्दो का शृंगार || 12

मान मिला जो मूँछ को , बैसा है किस ओर |
मुख मंडल की शान यह , मानें इसका जोर ||13

बाल बहुत रखता वदन , पर मूँछों के बाल |
बेशकीमती सब रहें , कीमत में हर हाल ||14

दुश्मन से भी बोलते , मत करना तू बात |
मेरी मूँछों सम नहीं , तेरी कुछ औकात ||15

रखो मूँछ की शान सब , अच्छा रखो चरित्र |
मूँछें चमके आपकी , जैसे खिलता इत्र ||16

इज्जत रखते मूँछ की , सभी जानते धर्म |
इसीलिए मुच्छड़ करें , सोच समझकर कर्म ||17

बिना मूँछ का आदमी ,क्या जानेगा शर्म |
मूँछें देतीं ताजगी , नहीं जानता मर्म ||18

बिना मूँछ का नर यहाँ , बिना पूँछ का ढ़ोर |
यह दोनों कब जानते , इज्जत है किस ओर || 19

बहुत कहानी है पढ़ी , जहाँ मूँछ के बाल |
दिखला आए शौर्यता , जिसमें दिखा कमाल ||20

खिल भी जाती मूँछ है , जब आती मुस्कान |
लिखकर मूँछ पुराण ही , आया मुझको ज्ञान ||21

मूँछें रखकर देखिए , जानो जरा प्रताप |
मुच्छड़ के सम्मान से , हर्षित होगें आप || 22

मूँछ कटाना पाप है, जिस दिन किया विचार |
उस दिन जानो आप है , मर्दो के सरदार || 23

मूँछ देखकर नारियाँ , देती हैं बहुमान |
आदर सँग सत्कार दें , अपना घूँघट तान ||24

जब तक जिंदा है पिता , हिंदू रीति रिवाज |
नहीं मुड़ाते मूँछ को , जाने सकल समाज || 25

बाबा दादा सुत पिता , दिखें मूँछ के चित्र |
मुच्छड़ यह परिवार है , कहते मिलकर मित्र ||26

मूँछें बढ़ती गाल तक , आगे बँधती कान |
बुक गिनीज में दर्ज का , मिल जाता सम्मान || 27

एक विनय सबसे करुँ , यदि हो उचित सलाह |
मुच्छड़ हो हर आदमी , कहे लोग वश वाह ||🙏28

मूँछ हमारी शान हो , मूँछ बने पहचान |
मुच्छड़ घोषित हो दिवस , अपने हिंदुस्तान ||🤑29

मूँछ चिन्ह ध्वज में बने, लहराए आकाश |
कायरता आए नहीं , रहे शौर्य आभाष || 🤔30

मुच्छड़ श्री सम्मान का , होवें शुभ आरंभ |
किसी तरह वश मूँछ का , बना रहे अब दम्भ ||🤓31

मूँछकटे है मुँछकटा , हो ऐसा फरमान |
नाक कटा ज्यों नककटे , कहलाते इंसान || 🤓32

राजा -महराजा हुए , चित्र देखिए आप |
सबने अपनी मूँछ का , उच्च रखा है माप ||33🙋

मुच्छड़ सेना भी बने, जिसकी रहे दहाड़ |
दुश्मन को ऐसा लगे, सम्मुख खड़ा पहाड़ ||34🙄

नकली मूँछों से अभी , मुच्छड़ बना सुभाष |
आगे असली अब रखूँ ,आया हृदय प्रकाश ||😄🙏35

©®सुभाष सिंघई

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
3005.*पूर्णिका*
3005.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
कविता
कविता
Alka Gupta
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
प्रेम
प्रेम
Dr. Kishan tandon kranti
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
सच की ताक़त
सच की ताक़त
Shekhar Chandra Mitra
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
ये दुनिया है आपकी,
ये दुनिया है आपकी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* पानी केरा बुदबुदा *
* पानी केरा बुदबुदा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
■ सनातन सत्य...
■ सनातन सत्य...
*Author प्रणय प्रभात*
ब्याह  रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
ब्याह रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
Dr Archana Gupta
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
तुम सम्भलकर चलो
तुम सम्भलकर चलो
gurudeenverma198
Loading...