Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2017 · 1 min read

मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई

ना पूछो यारो मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई
फ़ज़ीहत इसकी आजकल जमाने में आम हुई
जिस्म के भूखे है जो दरिंदे वो प्रेम क्या जाने
सुबह को मिले, शाम तक काम तमाम हुई !!
!
!
!
डी के. निवातिया

Language: Hindi
535 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
"छ.ग. पर्यटन महिमा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
बात मेरी मान लो - कविता
बात मेरी मान लो - कविता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
dks.lhp
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
*होली के दिन घर गया, भालू के खरगोश (हास्य कुंडलिया)*
*होली के दिन घर गया, भालू के खरगोश (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
Leena Anand
Loading...