Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

मुस्तहकमुल-‘अहद

क्या ज़माना आ गया है ?
दरिंदगी की इंतिहा हो गई है ,
दर्दनाक क़त्ल को हादसा बताया जा रहा है ,
वाकये को सनसनीखेज तमाशा बनाया जा रहा है ,
दौलत ,रुसूख़ और सियासत सर चढ़कर
बोल रही है ,
इंसानियत सिसक- सिसक कर
दम तोड़ रही है ,
मक़्तूल के अपनों के दिल पर
क्या गुज़र रही है ,
इसका एहसास
किसी को नहीं है ,
खबरनवीसों को अपनी
टी आर पी बनाने की पड़ी है,
सामयीन को अफ़वाहों का बाज़ार
गर्म करने की पड़ी है ,
अब वक्त आ गया है ,
हमें संजीदगी से इंसनियत के
एहसास को जगाना होगा ,
मक़्तूल के अपनों को इंसाफ दिलाने का
कौल लेना होगा ,
वरना, दंरिदगी यूँही जारी रहेगी ,
और, इंसानियत हमेशा शर्मसार होती रहेगी।

Language: Hindi
275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
गूँगी गुड़िया ...
गूँगी गुड़िया ...
sushil sarna
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंजिल एक है
मंजिल एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-54💐
💐अज्ञात के प्रति-54💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Dont judge by
Dont judge by
Vandana maurya
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
■ सूरते-हाल ■
■ सूरते-हाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
*तारे (बाल कविता)*
*तारे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
Loading...