Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2018 · 1 min read

मुल्क

हर शख़्स यहाँ रोता हुआ मिल जाएगा,
दामन अपना भिगोता हुआ मिल जाएगा..
चंद नोटों के लिए हो गयी ज़िन्दगी बर्बाद,
हर शख्श ये कहते हुए मिल जाएगा..
भूख की शिद्दत से निकल रही है जान ,
हर रोज़ यहाँ किसानों की, कामगारों की..
मुल्क का हर ज़िम्मेदार शख़्स यहाँ,
तुम्हें जश्न मनाते हुए मिल जाएगा..
डूब रहा है मेरा मुल्क ,तारीकियों में गुर्बत के;
हर शख्श हक़ ए राह में, सोता हुआ मिल जाएगा..
हर मोड़ ,हर चौराहे पर ,कचरे में ढूंढता हुआ खाना..
कोई बच्चा, कोई बूढ़ा तुम्हे मिल जाएगा..
लोग बेहिस से हुए जाते हैं ,रौ ए ज़िन्दगी में खुद के..
हर शख्स तुमको तड़पता हुआ, घुटता हुआ मिल जाएगा..

3 Likes · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
.
.
Amulyaa Ratan
मैंने रात को जागकर देखा है
मैंने रात को जागकर देखा है
शेखर सिंह
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*प्रणय प्रभात*
" क्यों? "
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक – एक धर्म युद्ध
मुक्तक – एक धर्म युद्ध
Sonam Puneet Dubey
होली पर बस एक गिला।
होली पर बस एक गिला।
सत्य कुमार प्रेमी
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
पार्थगाथा
पार्थगाथा
Vivek saswat Shukla
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
"" *अहसास तेरा* ""
सुनीलानंद महंत
कहाँ मिलेगी जिंदगी  ,
कहाँ मिलेगी जिंदगी ,
sushil sarna
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ये दुनिया भी हमें क्या ख़ूब जानती है,
ये दुनिया भी हमें क्या ख़ूब जानती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
Dr. Narendra Valmiki
Loading...