Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2023 · 1 min read

मुरली कि धुन,

कान्हा के मुरली कि धुन,
सुन प्यार मे दौड़ी राधा रानी।
राधा कहे मेरे मन की सुन,
कान्हा काहे करें तु मन मानी।

कान्हा के संग झूले राधे रानी।
सावन की बूँदों मे प्रेम अठखानी
कान्हा के मुरली कि धुन,
सुन प्यार मे दौड़ी राधा रानी।

काना गोकुल की गलियो मे फोड़े,
गोपियों की माखन मटकी।
काना की नज़रे माखन पर अटकी,
कान्हा काहे करें तु मन मानी।

गवाले भागे काना को पकड़े,
गोपियों संघ कान्हा करें नौटँकी
छोड़ो कान, सासे मेरी तुझ में अटकी।
कान्हा काहे करें तु मन मानी।

Language: Hindi
Tag: गीत
119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
*Author प्रणय प्रभात*
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
भगवान
भगवान
Anil chobisa
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
singh kunwar sarvendra vikram
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-297💐
💐प्रेम कौतुक-297💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
Ram Krishan Rastogi
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
Kumar lalit
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
Loading...