Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

मुद्रा नियमित शिक्षण

येन केन धन अर्जन हीं हो ,
जब शिक्षा का लक्ष्य प्रधान,

मुद्रा नियमित शिक्षण और,
द्रव्यार्जन को मिलता सम्मान।

ज्ञान की वृद्धि बोध की शुद्धि ,
का शिक्षक को ध्यान नहीं,

प्रज्ञा दोष के निस्तारण का ,
शिक्षक को अभिज्ञान नहीं।

तब उस विद्यालय में कोई ,
बोध का दर्पण क्या होगा?

विद्यार्थी व्यवसाय पिपासु ,
ज्ञान विवर्धन क्या होगा?

याद रहे गर देश में शिक्षण,
बना हुआ मजदूरी हो ,

शक्ति संचय अति आवश्यक,
शिक्षण गैर जरुरी हो।

तब राष्ट्र में बेहतर शिक्षक ,
अक्सर हीं हो जाते मौन ।

और राष्ट्र पर आती आपद ,
अभिवृद्धि हो जाती गौण।

अजय अमिताभ सुमन

Language: Hindi
117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-515💐
💐प्रेम कौतुक-515💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल कुछ आहत् है
दिल कुछ आहत् है
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
निराकार परब्रह्म
निराकार परब्रह्म
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"शुद्ध हृदय सबके रहें,
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
Er. Sanjay Shrivastava
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
19. कहानी
19. कहानी
Rajeev Dutta
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
हर जगह तुझको मैंने पाया है
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...