Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मुड़े पन्नों वाली किताब

औरत -एक किताब

मैं वो किताब हूं
जिसका,हर पन्ना
अधूरा पढ़ कर छोड़ दिया गया।
बस हर पन्ना मोड़ दिया गया।
कभी किसी ने वहीं से फिर नहीं पढ़ा
बस आधा अधूरा
ऐसे ही किताब के आखिरी अक्षर तक।
मैं आधी अधूरा ही समझा गया मुझे
अपनी अपनी परिभाषा दी गई मुझे।
एक नहीं,दो नहीं , ढेरों
चरित्र प्रमाण पत्र दे दिये गये मुझे।
किसी को मैं अबला।
किसी को सबला लगी
कोई संस्कारी समझा
कोई खुद से हारी समझा।
कोई देवी , शक्ति और मां समझा
कोई बस मुझे खिलौना समझा।
बस
मुड़े मुड़े से पन्नों को किसी ने खोल कर
पढ़ना,समझना नहीं चाहा।
मैं #औरत नाम की किताब हूं
मुड़े मुड़े पन्नों वाली😕😕

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
पूर्वार्थ
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
विचार और भाव-1
विचार और भाव-1
कवि रमेशराज
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
Lines of day
Lines of day
Sampada
अलगौझा
अलगौझा
भवानी सिंह धानका "भूधर"
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
Shweta Soni
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"बदबू"
Dr. Kishan tandon kranti
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Time and tide wait for none
Time and tide wait for none
VINOD CHAUHAN
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
गंगा मैया
गंगा मैया
Kumud Srivastava
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
Loading...