Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

मुझ में

मुझ में
अब मैं रहा ही कहां
सिर्फ तुम हो गया हूँ

हिमांशु Kulshreshtha

1 Like · 464 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
खिला तो है कमल ,
खिला तो है कमल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
..
..
*प्रणय प्रभात*
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
क्वालिटी टाइम
क्वालिटी टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
"उड़ान"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
World News
वाह रे जमाना
वाह रे जमाना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
Loading...