Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

मुझ को इतना बता दे,

मुझ को इतना बता दे,
मेरी मां कहां है मेरा घर।
और कहा है मेरा आशियां,
समाज ने कहा बेटियां,
पराया धन है,किसी और के घर की,
ये रोनके हैं।
किसी और के घर में जब ,
मै चली गई।
तो वहां जाकर भी मैं पराई ही रही।
मुझ को तू इतना बता दे,
मेरी मां कहां है मेरा घर,
और कहा है मेरा आशियां।

1 Like · 498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2998.*पूर्णिका*
2998.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"" *वाङमयं तप उच्यते* '"
सुनीलानंद महंत
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
Seema gupta,Alwar
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
" तय कर लो "
Dr. Kishan tandon kranti
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
जिन्हें बरसात की आदत हो वो बारिश से भयभीत नहीं होते, और
जिन्हें बरसात की आदत हो वो बारिश से भयभीत नहीं होते, और
Sonam Puneet Dubey
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
''बिल्ली के जबड़े से छिछडे छीनना भी कोई कम पराक्रम की बात नही
''बिल्ली के जबड़े से छिछडे छीनना भी कोई कम पराक्रम की बात नही
*प्रणय प्रभात*
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
लफ्जों के जाल में उलझा है दिल मेरा,
लफ्जों के जाल में उलझा है दिल मेरा,
Rituraj shivem verma
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
Dr Archana Gupta
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
*My Decor*
*My Decor*
Poonam Matia
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
Loading...