Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2016 · 1 min read

मुझे ज़िन्दगी तुम पढाते रहोगे…..

नज़र मुझसे यूँ ही मिलाते रहोगे,
मुझे ज़िन्दगी तुम पढाते रहोगे.
तुम्हारे ज़हन में हमेशा रहूंगा,
मुझे लिख के तुम जो मिटाते रहोगे
ये दुनिया तुम्हारे कदम चूम लेगी,
अगर तुम मुहब्बत लुटाते रहोगे.
ज़रा पूछ लो इन सियासत गरों से ,
कि मज़हब पे कब तक लड़ाते रहोगे.
कि साँसे कहाँ ले सकेंगे दुबारा,
हमे देखकर मुस्कुराते रहोगे.
दिलों में रहें हैं ठिकाने खुदा के
इमारत में कब तक बसाते रहोगे

………….सुदेश कुमार मेहर

469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
Ravi Prakash
"अकेलापन की खुशी"
Pushpraj Anant
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
2244.
2244.
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का पल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का पल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...