Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए

मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
मैं भी बदमाश हूं,मुझे बदमाश बोला जाए

–केशव

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
The best time to learn.
The best time to learn.
पूर्वार्थ
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
gurudeenverma198
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोई जब पथ भूल जाएं
कोई जब पथ भूल जाएं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सबसे बढ़कर"
Dr. Kishan tandon kranti
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
..
..
*प्रणय प्रभात*
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
किसी के दुःख को अपनें भीतर भरना फिर एक
किसी के दुःख को अपनें भीतर भरना फिर एक
Sonam Puneet Dubey
Loading...