Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

बिना शर्त खुशी

मुझे वहां तक किसी को विश्वास दिलाना अच्छा लगता है जहाँ तक वह खुश रहे । उसे खारिज करना मेरे लिए कोई बड़ी बात नही , ज्यादा से ज्यादा संवाद बाधित ही होगा । शायद ही विश्वास ही खत्म हो जाये ।
rohit

245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
अड़बड़ मिठाथे
अड़बड़ मिठाथे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
बचपन
बचपन
Vedha Singh
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
gurudeenverma198
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
*अंगूर (बाल कविता)*
*अंगूर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हैं राम आये अवध  में  पावन  हुआ  यह  देश  है
हैं राम आये अवध में पावन हुआ यह देश है
Anil Mishra Prahari
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
शिव प्रताप लोधी
बोझ
बोझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*प्रणय प्रभात*
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
शेखर सिंह
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
अफ़सोस
अफ़सोस
Shekhar Chandra Mitra
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
Loading...