Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।

मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
भले दूर तुम जाओ लेकिन ,मैं तो इश्क निभाऊंगा।।1

बहुत मुसाफिर राह मिलेंगे, चाहत मिले मुबारक हो।
बिना तुम्हारे सनम बता दो, मैं कैसे जी पाऊंगा।।2

क्या धोखे में खता हुई है कुछ तो सनम बता दो ना।
खता हुई क्या दिल जो पूंछे,इसको क्या बतलाऊंगा।।3

बहते हुए ज़ख्म हैं दिल के, इनको जोर छिपा लूंगा।
लेकिन अश्क जमीं गिरने से,प्रखर रोंक ना पाऊंगा ।।4

कोई झूंठी वजह बता दो , तोहमत सिर पे रख लूंगा।
रुसवाई हो सनम तुम्हारी, सहन नहीं कर पाऊंगा ।।5

सनम बेवफा तुमको कहकर,तोहमत दोस्त लगाएंगे।
सच कहता हूं कसम तुम्हारी, जीते जी मर जाऊंगा।।6

गम की काली घटा घिरे तो, सनम चांद से कह देना।
मैं सावन की बूंदों वाली , बारिश बनकर आऊंगा ।।7
– सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

550 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
सफल सिद्धान्त
सफल सिद्धान्त
Dr. Kishan tandon kranti
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
होली आ रही है रंगों से नहीं
होली आ रही है रंगों से नहीं
Ranjeet kumar patre
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
◆व्यक्तित्व◆
◆व्यक्तित्व◆
*प्रणय प्रभात*
*डमरु (बाल कविता)*
*डमरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
सच्चा मन का मीत वो,
सच्चा मन का मीत वो,
sushil sarna
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
gurudeenverma198
हम पर एहसान
हम पर एहसान
Dr fauzia Naseem shad
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
वो गली भी सूनी हों गयीं
वो गली भी सूनी हों गयीं
The_dk_poetry
जै हनुमान
जै हनुमान
Seema Garg
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...