Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 2, 2022 · 2 min read

मुझे तुम्हारी जरूरत नही…

हाँ..
तुम्हें शायद होगा ना

तुम जब काम में या कहीं और बीझी हुआ करते थे न
तब मेरे बार -बार कॉल करने से परेशान हुआ करते थे
इतना परेशान के तुम्हें इरिटेशन होने लगती
और तुम मेरा नंबर ही ब्लॉक कर देते थे
जब तुम ब्लॉक कर के निकल जाते थे न
तब रो – रोकर मेरा क्या हाल होता था
तुम कभी सोच या समझ ही ना सके
तुमको तो बस अपनी प्रायवेसी प्यारी थी…

एक कॉल से शुरू सिलसिला पचासों मिसकॉलों का
नॉटीफिकेशन तुम्हारे फोन पर बिखेरते थे
कॉल बैक के मैसेज पर मैसज
फोन के हिस्ट्री में तुम्हारे दम तोड़ा करते थे
फिर भी परवाह कहाँ तुम्हें होती थी
तुमको तो मेरा पागलपन ही नजर आता था…

शायद तुम ये बात भी भूल चुके थे के
ये हर पल, हर जगह, हर माहौल में
बातों का सिलसिला तुमने ही तो मुझे सिखाया था
जिसका कोई नहीं था
उसको तुमने ही तो अपनाया था
फिर जब तुम्हें कोई और मिल गया तो
तुम्हारा मुझसे दम घुटने लगा था…

ये सच था के हम घंटो बाते करते थे
तुम अपना काम कर के जब घर को लौटा करते थे न
बस तुमसे इतना कहना था के
घर पर पहुँच कर कॉल या मैसेज कर दिया करना
ये नहीं के तुमसे चिपके रहना था
जानती थी जो तुम्हें अच्छे से
कितनी रफ तो चलाया करते थे ना अपनी बाइक को
ड़र लगा करता था कहीं तुम्हें कुछ हो न जाए
क्यूँकि तुम्हारें अलावा कोई और ना था मेरा
इस बात से भी तुम्हें दिक्कत थी मेरी
तोड़कर बोलने की बस आदत मार देती थी तुम्हारी
छोड़ गए ना.. छोड़ जाना ही था तुम्हें…

लेकिन
अब तुम्हारे जाने के बाद
सब कुछ बदल लिया हैं खुदमें
फोन को इस्तेमाल करना ही छोड़ चुके हो जैसे
फोन तो हैं लेकिन सिम ही नहीं हैं न
नया नंबर ही नहीं लिया इन कई सालों में
ड़र लगता हैं कहीं फिर तुमसे बात करना ना शुरू कर दूँ
जानती हूँ .. लौट आओगे मेरी एक आवाज पर

अब के तुम्हें लौटने की इजाजत नहीं है,
अब तुम परवाह, इज्जत, प्रेम इन व्याकरणों से बाहर हो,
जितना दर्द तुम दे सकते थे दे चुके
अब मेरा तुम्हें ना अपनाना ही
तुम्हारा अभिशाप रहेगा .. जब तक तुम जिवित रहोगे…..

प्रेम मेरा अस्तित्व था…
तुमको इसको मिटाकर राख करने का
इस जनम तो क्या,सात जनम भी ना दूँगी
अब खुदसे एक वादा हैं मेरा..

मुझे तुम्हारी जरूरत नहीं….
#ks

1 Like · 2 Comments · 151 Views
You may also like:
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
'अशांत' शेखर
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न थी ।
Rj Anand Prajapati
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
रामलीला
VINOD KUMAR CHAUHAN
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
कब तुम?
Pradyumna
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
छत्रपति शिवजी महाराज के 392 वें जन्मदिवस के सुअवसर पर...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
डरता हूं
dks.lhp
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के...
डी. के. निवातिया
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
मत करना
dks.lhp
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr.Alpa Amin
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
Loading...