Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 2 min read

मुझे तुम्हारी जरूरत नही…

हाँ..
तुम्हें शायद होगा ना

तुम जब काम में या कहीं और बीझी हुआ करते थे न
तब मेरे बार -बार कॉल करने से परेशान हुआ करते थे
इतना परेशान के तुम्हें इरिटेशन होने लगती
और तुम मेरा नंबर ही ब्लॉक कर देते थे
जब तुम ब्लॉक कर के निकल जाते थे न
तब रो – रोकर मेरा क्या हाल होता था
तुम कभी सोच या समझ ही ना सके
तुमको तो बस अपनी प्रायवेसी प्यारी थी…

एक कॉल से शुरू सिलसिला पचासों मिसकॉलों का
नॉटीफिकेशन तुम्हारे फोन पर बिखेरते थे
कॉल बैक के मैसेज पर मैसज
फोन के हिस्ट्री में तुम्हारे दम तोड़ा करते थे
फिर भी परवाह कहाँ तुम्हें होती थी
तुमको तो मेरा पागलपन ही नजर आता था…

शायद तुम ये बात भी भूल चुके थे के
ये हर पल, हर जगह, हर माहौल में
बातों का सिलसिला तुमने ही तो मुझे सिखाया था
जिसका कोई नहीं था
उसको तुमने ही तो अपनाया था
फिर जब तुम्हें कोई और मिल गया तो
तुम्हारा मुझसे दम घुटने लगा था…

ये सच था के हम घंटो बाते करते थे
तुम अपना काम कर के जब घर को लौटा करते थे न
बस तुमसे इतना कहना था के
घर पर पहुँच कर कॉल या मैसेज कर दिया करना
ये नहीं के तुमसे चिपके रहना था
जानती थी जो तुम्हें अच्छे से
कितनी रफ तो चलाया करते थे ना अपनी बाइक को
ड़र लगा करता था कहीं तुम्हें कुछ हो न जाए
क्यूँकि तुम्हारें अलावा कोई और ना था मेरा
इस बात से भी तुम्हें दिक्कत थी मेरी
तोड़कर बोलने की बस आदत मार देती थी तुम्हारी
छोड़ गए ना.. छोड़ जाना ही था तुम्हें…

लेकिन
अब तुम्हारे जाने के बाद
सब कुछ बदल लिया हैं खुदमें
फोन को इस्तेमाल करना ही छोड़ चुके हो जैसे
फोन तो हैं लेकिन सिम ही नहीं हैं न
नया नंबर ही नहीं लिया इन कई सालों में
ड़र लगता हैं कहीं फिर तुमसे बात करना ना शुरू कर दूँ
जानती हूँ .. लौट आओगे मेरी एक आवाज पर

अब के तुम्हें लौटने की इजाजत नहीं है,
अब तुम परवाह, इज्जत, प्रेम इन व्याकरणों से बाहर हो,
जितना दर्द तुम दे सकते थे दे चुके
अब मेरा तुम्हें ना अपनाना ही
तुम्हारा अभिशाप रहेगा .. जब तक तुम जिवित रहोगे…..

प्रेम मेरा अस्तित्व था…
तुमको इसको मिटाकर राख करने का
इस जनम तो क्या,सात जनम भी ना दूँगी
अब खुदसे एक वादा हैं मेरा..

मुझे तुम्हारी जरूरत नहीं….
#ks

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 882 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ चुनावी_मुद्दा
■ चुनावी_मुद्दा
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
"इंसान हो इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
शेखर सिंह
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
Phool gufran
*घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)*
*घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)*
Ravi Prakash
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सम्मान
सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...