Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 2 min read

मेरी (ग्राम) पीड़ा

मुझे (ग्राम) अपने स्वार्थ में इतना डुबो सा दिया गया हैं कि मुझे (ग्राम) अग्नि में भी झोंकने से यहाँ राजनीति चाटुकार नहीं चूक रहे हैं, मुझे (ग्राम) अपने स्वयं घर में बंधनों में बंधक बना डाला हैं, मेरे हाथ पाँव बांध दिया जाता हैं, मेरे ही परिवार में मेरे ही सदस्य मुझे इतना जकड़ रखा हैं, कि मुझे अपने ही परिवार में एक सदस्य से दूसरे सदस्य तक मिलने जाने में कट बंधों का सामना करना पड़ रहा हैं, मेरे परिवार वाले मुझे ही बाट रहे हैं, अपने अंतर मन में मेरे बेटे (सदस्य) एकता और सप्रेम ही भूल गए हैं, बस मारों काटो, लूटो, तोड़ो, लड़ाओ, वीभत्स कलश, अमृत कलश बताकर पिलाओं, नए पुराने सभी बच्चों को राक्षस बनाओ, ऐसी प्रथा जन्म ले रहा हैं, मुझे अब तो विष धर जैसे नाग के घेरे में खड़ा कर दिया हैं, अपने मुर्गा मसाला साग जैसे स्वादिष्ट स्वाद में लिप्त हैं, जैसे ही आधुनिक कला जीवन में प्रतिपादन हो रहा हैं, उतना ही मेरे (ग्राम) बच्चे मेरे अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करते जा रहे हैं, जो मेरा अस्तित्व पूर्वजों के स्थिति समूह में था, उस पर तो अब चन्द्र ग्रहण सा लग गया हैं, मेरे माथे पर कलंक का तिलक लगा कर लालायित हो रहे हैं, मुझे ऐसी पीड़ा से मुक्ति का मार्ग प्रदान करों, मै तड़प रहा हूँ, व्याकुल हूँ, मुझे मुक्त करों, मुझे आजादी चाहिए, पुनरावृति प्रसाद ग्रहण कराओ, करेले का फल तो ठीक हैं, लेकिन मीठा राजनीति विष का रस पान मुझे मत कराओ, मुझे (ग्राम) काटे का ताज पसंद हैं, लेकिन अनैतिकता में मुझे स्वर्ण मुकुट कल्पना आवरण मत दो, मेरा यथार्थ पहचान करके मेरे संस्कृतियों का परित्याग न करों, मेरे पुराने क्रिया कलाप में नव जागरण का एक वस्त्र पहना दो मेरे बच्चों (सदस्यों) बस यहीं माँगता हूँ।

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
राम राज्य
राम राज्य
Shashi Mahajan
— कैसा बुजुर्ग —
— कैसा बुजुर्ग —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
shabina. Naaz
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
#हृदय_दिवस_पर
#हृदय_दिवस_पर
*प्रणय प्रभात*
Loading...