Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,

मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
बड़ा बेरहम सा है मुझपे रहम करने वाला,
मैं हर रोज़ उम्मीद बंधाती हुँ वो हर रोज़ उम्मीद तोड़ता है।

4 Likes · 4 Comments · 459 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
तुम रट गये  जुबां पे,
तुम रट गये जुबां पे,
Satish Srijan
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
DrLakshman Jha Parimal
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
तमाशबीन जवानी
तमाशबीन जवानी
Shekhar Chandra Mitra
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
3172.*पूर्णिका*
3172.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
Loading...