Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मुझसे रु-ब-रु तो हो

आए हो मुझसे मिलने तुम मुद्दतों के बाद
दे सकते क्या वक़्त का सौग़ात भी नहीं/

आते ही तुम क्यूँ कह रहे जाने को तो ही
अभी तो हुई है बात की शुरुआत भी नहीं/

थोड़ी देर पास ठहर मुझसे रु-ब-रु तो हो
अभी तो हुई है पूरी ही मुलाक़ात भी नहीं/

बैठे हो मेरे सामने मगर ख़ुद से उलझे हो
करते हो तुम क्यूँ कोई सवालात भी नहीं/

आकर मेरे क़रीब तुम फिर दूर जाते हो
समझते हो तुम क्यूँ मेरी जज़्बात भी नहीं/

छोड़ा है जबसे तूने मुझे बिखरा सा ही हूँ
क्या तुम देख रहे हो मेरे हालात भी नहीं/

रूह में समा मेरे ही क्यूँ इतना दूर हो गए
रखते हो अब तो कोई ताल्लुक़ात भी नहीं/

थम जाते लम्हात तो इस इश्क़ के मर्ज़ में
कटती तो अब मेरी ग़म-ए-रात भी नहीं/

तपता हूँ दिन रात ही विरहा की आँच में
आती है अब तो क्यूँ ये बरसात भी नहीं/

चलता नहीं किसी का दिल पर कोई ज़ोर
रोक सकता तो इश्क़ को ऐहतियात भी नहीं/

अब तो इस उलझन से ही कैसे बचें अजय
बचा सकता अब तो कोई करामात भी नहीं/

161 Views
You may also like:
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
बाबू जी
Anoop Sonsi
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
चल-चल रे मन
Anamika Singh
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
प्रकृति का अंदाज.....
Dr. Alpa H. Amin
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
Loading...