Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2016 · 1 min read

मुक्तक

2212 2212 2212 2212

ये भूल मानव की कहूँ ,या काल की मैं क्रूरता।
मानव मगर इस चीज़ को,कहता रहा है वीरता।।
कैसे कहें भगवान हम पर रूठ जाता है कभी।
कब मानता मानव बताओ देवता की धीरता।।

?????????????

भाऊराव महंत “भाऊ”

Language: Hindi
494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
अवसान
अवसान
Shyam Sundar Subramanian
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
राकेश चौरसिया
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह जो मेरी वीरान सी आंखें है..
यह जो मेरी वीरान सी आंखें है..
कवि दीपक बवेजा
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
*रखो सम्मोहक बोली 【कुंडलिया】*
*रखो सम्मोहक बोली 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
"हर सुबह कुछ कहती है"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
Happy Holi
Happy Holi
अनिल अहिरवार"अबीर"
रिस्ता मवाद है
रिस्ता मवाद है
Dr fauzia Naseem shad
■ आह्वान करें...
■ आह्वान करें...
*Author प्रणय प्रभात*
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
Loading...