Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

अमलतास

हल्दी चढ़ी दुल्हन सरीखी सुशोभित डाल है
चंदन सी सुनहरी मुस्कुराहट भी कमाल है
पवन छू -छू कर करे शरारत गुलों से देखो
ग्रीष्म में भी अमलतास का सौंदर्य मिसाल है।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 300 Views
You may also like:
मनमोहन जल्दी आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेचने वाले
shabina. Naaz
हिन्दू मुस्लिम समन्वय के प्रतीक कबीर बाबा
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
'अशांत' शेखर
वक्त
Harshvardhan "आवारा"
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
तुम अगर हो पास मेरे
gurudeenverma198
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
"तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!"
पाण्डेय चिदानन्द
दुल्हन
Kavita Chouhan
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
■ एक यात्रा वृत्तांत / संस्मरणR
*प्रणय प्रभात*
#मोहब्बत मेरी
Seema 'Tu hai na'
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें अपनी
Dr fauzia Naseem shad
Book of the day: काव्य मंजूषा (एक काव्य संकलन)
Sahityapedia
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
सावन
Shiva Awasthi
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
Loading...