Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2016 · 1 min read

रंगो भीगे

रंगो भीगे अंग, हिय में उमंग , मारे पिचकारियाँ
इत भागो उत भागो रंग डारो,बालक भरें किलकारियाँ
मिले सब गले,मिटा दिये शिकवे गिले,गुजिया खिलायें
होली पे सदा खिलें प्यार मनुहार सद्भाव की क्यारियाँ

1 Comment · 224 Views
You may also like:
कुछ काम करो
Anamika Singh
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
गज़लें
AJAY PRASAD
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
Angad tiwari
Angad Tiwari
बुलबुला
मनोज शर्मा
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्रांतिसूर्य
"अशांत" शेखर
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
#मजबूरी
D.k Math
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
यादें
Sidhant Sharma
Loading...