Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

बेटियाँ

आकांक्षाओं के पंख फैलाये बेटियाँ मन भाएं
कामनाएं जब पूरी हो इनकी तब ये चहचहायें
अपने बाबुल के घर आँगन की हैं ये सुंदर परियां
उम्रभर आदर्शों संस्कारों के तहत जीवन बिताएं।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
152 Views
You may also like:
✍️अपना ही सवाल✍️
'अशांत' शेखर
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
# सुप्रभात .......
Chinta netam " मन "
पुरानी यादें
Palak Shreya
कौन उठाए आवाज, आखिर इस युद्ध तंत्र के खिलाफ?
AJAY AMITABH SUMAN
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
क्षणिकायें-पर्यावरण चिंतन
राजेश 'ललित'
राधा
सूर्यकांत द्विवेदी
आस्तित्व नही बदलता है!
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कब तलक आखिर
Kaur Surinder
मुंडा तेनू फाॅलो करदा
Swami Ganganiya
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
दिवाली है
शेख़ जाफ़र खान
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रतिकार
Shekhar Chandra Mitra
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्यार कर डालो
Dr. Sunita Singh
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
दिन रात।
Taj Mohammad
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*भादो की शुभ अष्टमी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*प्रणय प्रभात*
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
रूठे रूठे से हुजूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...