Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2017 · 1 min read

मुक्तक

मेरी बेखुदी को कोई नाम न देना!
मेरी तमन्नाओं को इल्जाम न देना!
बहके हुए इरादों को तड़पाना न कभी,
सुलगी हुई तन्हाई की शाम न देना!

मुक्तककार- #महादेव'(23)

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"Don't be fooled by fancy appearances, for true substance li
Manisha Manjari
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-175💐
💐प्रेम कौतुक-175💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
"दुर्भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
Jay Dewangan
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
"चाणक्य"
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
देख लेते
देख लेते
Dr fauzia Naseem shad
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...